भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सैर री माया / विनोद कुमार यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गांव अब
नीं रैयो गांव
वार्ड बणग्यो
नगर परिषद रो
जिण में
धिकै नीं
भोळा मिनख
बिकै प्लाट
मिलै रोटी
मनै ठाट

खेतां नै जीमग्या
कळ-करखाना
जठै नीं चालै हळ
पण जरूर लागै फळ
अब मूंछ नीं
मांदा डील में
बधै बोट बळ।

जिण खनै
घणा बोट
उण ने
परमेसर री ओट
कोई भी
बण सकै परमेसर
नेतागीरी री
चढ्यां घोट।

गाँव तो गाँव है
निरी बावळ
भूख रो घर
आवळ-कावळ
सैर री माया
सिरे सूं सावळ।