भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोचिए किस तरह बचा है पेड़ / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोचिए किस तरह बचा है पेड़
 धूप तीखी है पर हरा है पेड़

 झर गईं पत्तियांँ मगर देखो
 खामुशी ओढ़कर खड़ा है पेड़

 आज हारे थके मुसाफिर को
 एक उम्मीद—सा दिखा है पेड़

 धूप मिट्टी हवा औ बारिश का
 एक नायाब ज़ायका है पेड़

 एक एहसास बनकर ख़्वाबों में
 याद आए तो और क्या है पेड़

 मुझको लगता है कोई अपना था
 आपके वास्ते कटा है पेड़

 ज़िन्दगी की जगह कहीं मैंने
 दिल में आया तो लिख दिया है पेड़