भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोनमछरी / विश्वासी एक्का

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डुबकती, उचकती, बलखाती
लहरों से होड़ ले अठखेलियाँ करती थी सोनमछरी
चरवाहे का मन भी उमगता-बहता जाता धारे के सँग दूर तक
सुहाती थी आँख-मिचौली
बाँसुरी की स्वर-लहरी
लहरों की तान
सुरीला सँगम ।

नदी का किनारा
जँगल की ज़मीन
रोमाँच से भर जाते दोनो ।

किसे अन्देशा था झँझावात का
रँग-बिरँगे धागों से बुना जाल
सुनहरे दाने आकर्षण और ठगौरी ।

नदी का किनारा
चरवाहा और बाँसुरी
दूर तक पसरा सन्नाटा ।

अब नहीं दीखती सोनमछरी
डूबती, उतराती
खो गई जाने कहाँ
किस गहराई और खोह में सदा के लिए ।