भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सो जा, राजदुलारी! / कन्हैयालाल मत्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सो जा, मेरी बिटिया रानी,
सो जा, राजदुलारी!
सोया चंदा, सोए तारे,
नील गगन के पंछी सारे,
रंग-बिरंगी तितली सोई-
फूलों की फुलवारी।
सो जा, राजदुलारी!
नभ से उतरा उड़नखटोला
नींद-परी ने घूंघट खोला,
सपनों की शहजादी लाई-
जादू-भरी पिटारी।
सो जा, राजदुलारी!
मीठे-मीठे सपने आए,
अचक-पचक पलकों पर छाए,
मंद हवा के झोंके देते-
थपकी प्यारी-प्यारी।
सो जा, राजदुलारी!