भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सो जा बिटिया / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सो जा बिटिया, सो जा।
सो जा मेरी राजदुलारी,
सो जा मेरी बिटिया प्यारी।
आएगी अब प्यारी निंदिया,
चांद-सितारों वाली निंदिया।
आएगी वह धीरे-धीरे,
जादू वाली एक छड़ी ले।
मीठी लोरी गाती निंदिया,
गाती और मुसकाती निंदिया।
हंसकर तुझे सुलाएगी वह,
झूला खूब झुलाएगी वह।
चंदा तक ले जाएगी वह,
इक सपना बन जाएगी वह।
तारों की छैयां को छूकर,
आएगी जब तू धरती पर।
खूब हंसेगी खिल-खिल, खिल-खिल,
प्यारा मुखड़ा झिलमिल-झिलमिल।
सुख-सपनों में खो जाएगी,
सोते-सोते मुसकाएगी।