भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सौन्दर्य का एक क्षण / वीरेन्द्र कुमार जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सर्दी की सुबह :
कॉलेज के बरामदे में,
ताश-चिड़ियानुमा जाली,
उसमें झलमलाती हरियाली पत्राली :
इस ओर चिड़ियों की
धूप-छाया चित्राली।
...यह क्षण चित्रित था मेरे भीतर
कहीं बहुत दूर :
वक़्त के पहले कहीं और।
वक़्त में होना किस क़दर दिलचस्प है,
उसकी हदों तक जाने के सफ़र के लिए!

...प्याला बेशक टूट गया
हाथ से गिरकर :
मगर साबुत है प्याला वहाँ
जहाँ मैं हूँ आख़िर!


रचनाकाल : 20 नवम्बर 1975, कॉलेज परीक्षा-हॉल