भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सौ दिन / मोहन राणा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

और यह सदी यह बरस

यह पल जिसमें लिखे जा रहा हूँ मैं ये शब्द

बीत जाएँगे

पर ये शब्द ही लौटाएँगे मुझे और तुम्हें एक साथ

कभी अकेले

उतरती हुई रात के गुमसुम इस पहर में

प्रतीक्षा करते हुए इसके बीतने की

इसके चले जाने के

पर कहीं और भी न जाऊँगा मैं


माचिस की डिबिया में अंतिम

सौ तिल्लियाँ हैं ये सौ दिन

इन्हें बचा के रख लूँ कभी सोचता हूँ

सदी को बीतना ही है