भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हँसती गाती तबीयत रखिए / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हँसती गाती तबीयत रखिए
बच्चों वाली आदत रखिए

शोला, शबनम, शीशे जैसी
अपनी कोई फ़ितरत रखिए

हँसी, शरारत, बेपरवाही
इनमें अपनी रंगत रखिए

छेड़-छाड़ और धींगामस्ती
करने को भी फ़ुरसत रखिए

भरे-भरे मानी की ख़ातिर
कभी-कभी कोरा ख़त रखिए

काम के इंसां हो जाओगे
हम जैसों की सोहबत रखिए