भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हँसते थे मेरे हाल को जो यार देख कर / मिर्ज़ा मोहम्मद तकी 'हवस'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हँसते थे मेरे हाल को जो यार देख कर
उन सब ने रो दिया मुझे बीमार देख कर

सब हम-सफीर छोड़ के तनहा चले गए
कुंज-ए-क़फ़स में मुझ को गिरफ़्तार देख कर

क्या जाने क्या ग़ज़ब है ये जादू भरी निगाह
ग़श कर गया हूँ मैं जिसे यक बार देख कर

ख़ून-ए-जिगर के साथ कहीं चला न जाए
रोना ज़रा तू दीदा-ए-खूंबार देख कर

अपने ‘हवस’ पे जब से के तू मेहर-बाँ हुआ
जलते हैं रात दिन उसे अग़्यार देख कर