भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हठ पर गई गौरा नार / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हठ पर गई गौरा नार,
महादेव मढ़िया हमें बनवाय दियो।
काहे की मढ़िया बनवाई,
काहे के कलश धराये। हमें...
चूना ईंटा की मढ़िया बनाई,
सोने के कलश धराये। हमें...
कै जोजन मढ़िया बनी औ
कै जोजन विस्तार महादेव। हमें...
नौ जोजन मढ़िया बनी औ
दस जोजन विस्तार महादेव। हमें...
को मढ़िया में बैठयों औ
कौना करे विस्तार महादेव। हमें...
गौर मढ़िया में बैठिहे औ
भोला करे विस्तार महादेव। हमें...