भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हताश समय / तेनजिन त्सुंदे / अशोक पांडे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मार डालो मेरे दलाई लामा को
ताकि मै बन्द कर दूँ यक़ीन करना
दफ़ना दो मेरा सर
फोड़ दो उसे
मेरे कपड़े उतार दो
ज़ंजीरों में बाँध दो
बस, मुझे आजाद न करना

इस क़ैदखाने के भीतर
यह शरीर तुम्हारा है
लेकिन इस शरीर के भीतर
मेरा यक़ीन, बस, मेरा है
तुम यही चाहते हो न
मुझे मार डालना यहीं — ख़ामोशी के साथ
ध्यान रखना एक भी साँस न बचे
बस, मुझे आज़ाद न करना

अगर तुम चाहो तो ऐसा फिर करना
बिलकुल शुरू से
मुझे अनुशासित करो
नए सिरे से शिक्षित करो
अपने सिद्धान्त सिखलाओ
मुझे दिखाओ अपनी कम्युनिस्ट तिकड़में
बस, मुझे आज़ाद न करना

मार डालो मेरे दलाई लामा को
और मै
बन्द कर दूँगा यक़ीन करना

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अशोक पांडे