भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमरा भैय्या आँगन रे शोभा बढ़ै बिसन देव / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हमरा भैय्या आँगन रे शोभा बढ़ै बिसन देव।
ऊ कौन सो भड़वा रे देखन आयो बिसन देवा।।
ऊ देखता-देखता रे का हो हार्यो बिसन देवा।
ऊ देखता-देखता रे, बहनी हारी बिसन देवा।।
ब्रह्मा सरीको रे पोर्या हार्यो बिसन देवा।
पोर्या सरीको रे गोदड़या हार्यो बिसन देवा।।