भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम्में सजैलेॅ छी आपनोॅ मड़ैया तोंय आवी जइयोॅ / आभा पूर्वे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम्में सजैलेॅ छी आपनोॅ मड़ैया तोंय आवी जइयोॅ
सेज कुसुमी सजैलेॅ छी आवो जइयो
तोरा लेॅ व्याकुल छै रोआं-रोआं तक, मन व्याकुल
तोरा मन दौं हँकारोॅ तोंय आवी जइयोॅ
तोरे लेॅ खिललोॅ छै गेंदा, चमेली कि हेनोॅ महकै
जेन्होॅ तन-मन ई हमरोॅ तोंय आवी जइयोॅ
तोरे लेॅ कारोॅ चुनरिया पिन्ही केॅ छै रात ऐलोॅ
तहूँ अग-जग महकैलेॅ तोंय आवी जइयोॅ
तोरै सें हम्में छी फूलो ई, सेजो ई, रातो पियवा
ई नै हरदम हुवै छै तोंय आवी जइयोॅ