भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम अपने दुख को गाने लग गए हैं / मदन मोहन दानिश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम अपने दुख को गाने लग गए हैं
मगर इसमे ज़माने लग गए हैं

किसी की तरबियत का है करिश्मा
ये आँसू मुस्कुराने लग गए हैं

कहानी रुख़ बदलना चाहती है
नए किरदार आने लग गए हैं

ये हासिल है मेरी ख़ामोशियों का
कि पत्थर आज़माने लग गए हैं

मेरी तन्हाइयाँ भी उड़ न जाएँ
परिंदे आने-जाने लग गए हैं

जिन्हें हम मंज़िलों तक ले के आए
वही रस्ता बताने लग गए हैं

शराफ़त रंग दिखलाती है दानिश
सभी दुश्मन ठिकाने लग गए हैं