भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरखू सोचे खड़ा-खड़ा / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हरखू सोचे खड़ा-खड़ा।
देखो जिधर, उधर लफड़ा।।

क्या गृहस्थ, क्या संन्यासी,
माया ने सबको जकड़ा।।

कलियुग की महिमा देखो,
जल्दी भरता नहीं घड़ा।।

क्या ईश्वर करवाता है?
हिन्दू-मुस्लिम में झगड़ा।।

आँखों में हँसती ‘हाँ’, पर,
अधरों पर इन्कार जड़ा।।

काली करतूतें, फिर भी,
दर्पण में देखें मुखड़ा।।

जन सेवक राजाओं-सा,
‘मृदुल’ फिरे अकड़ा-अकड़ा।।