भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरिवंश पुराण / स्वयंभू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भीम-कीचक की कुश्ती

तो भिडिय परोप्परु रण कुसल। विण्णि वि णव णाय सहास बल॥
विण्णि वि गिरि तुंग सिंह सिहर। विण्णि वि जल हर रव गहिर गिर॥
विण्णि वि दट्ठोट्ठ रुट्ढ वयण। विण्णि वि गुंजा हल समणयण॥
विण्णि वि णह यल णिह वच्छथल। विण्णि वि परिहोवम भुज युगल॥