भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरेक बिहान / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हरेक बिहान
रक्ताम्य खबरहरूसँगै ब्यूँझन्छु
र सशङ्कित हुँदै छाम्दछु आफूलार्इ
आफैँ हो कि हैन भनेर।
 
कृतज्ञता व्यक्त गर्दछु
आफ्नो एकमात्र संरक्षकलार्इ
"धन्य र्इश्वर!
हिजो मर्ने र मारिनेहरूको सूचीमा
मेरो नाम छैन "।