भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर चन्द चाहता हूँ कि उनका कहा करूँ / रविंदर कुमार सोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर चन्द चाहता हूँ कि उनका कहा करूँ
लेकिन ये आरज़ू कि तमाशा किया करूँ

सूरज की रोशनी ने किया दिल को दाग़ दाग़
ली है पनाह तीरगी ए शब में क्या करूँ

हर अश्क ए ख़ून ए दिल के है जी में ये आजकल
ऐसा भी हो कि पलकों से उनकी बहा करूँ

हो यूँ, कि दिन ढले कोई आकर मिरे क़रीब
रूदाद मेरी मुझ से कहे, मैं सुना करूँ

लब पर शिकायत ए ग़म ए दौराँ न आ सकी
मायूसियों ने शर्त लगाई थी, क्या करूँ

बे बाल ओ पर सही ये मगर बे अमल नहीं
मुर्ग़ ए चमन को क़ैद ए क़फ़स से रिहा करूँ

उठ कर दर ए हबीब से दिल में है ये, रवि
जा कर दयार ए ग़ैर में तन्हा रहा करूँ