भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर डोह जो पूरो जवाबु घुरन्दो / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर डोह जो पूरो जवाबु घुरन्दो।
कोई त तो खां भी हिसाबु घुरन्दो॥

हर नस्ल नईं और ख़वाब ॾिसन्दी।
हर फ़िक्रु नओं इंक़िलाबु घुरन्दो॥

हर युग खे नईं राह सोचु घुरिजे।
हर दौरु नओं को किताबु घुरन्दो॥

हर सुबह नओं सिजु, नयूं अदाऊं।
हर वक्तु नओं आब ताबु घुरन्दो॥

इतिहासु कमल पंहिंजे वक्त ते ई।
हर रत जे फुड़े जो हिसाबु घुरन्दो॥