भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हलमान / पतझड़ / श्रीउमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यै दिगार के हलमानों के डेरा छेलै हमरे डार।
दिन-भर चास उजारेॅ सबके, साँझें उतरी आबेॅ पार॥
एक तोलङ डां हुप्प-हुप्प करिकेॅ झकझोरेॅ करेॅ निनान।
ओकरा डरें डरैलोॅ काँऐॅ-तरकारी के दुखी किसान॥
नङ्ड़ी पकड़ी-पकड़ी केॅ झूलै छेलै बच्चा हलमान।
उछलै छैलै, कुदै छेलै, किलकै छेलै साँझ-बिहान॥
पतझड़ होला पर एक्को हलमान कथी लेॅ एतोॅ पास।
यै पतझड़ में ओकरो डेरा उजड़ी गेलै, होलोॅ उदास॥