भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवाएँ चैत की / अज्ञेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बह चुकी बहकी हवाएँ चैत की
कट गईं पूलें हमारे खेत की
कोठरी में लौ बढ़ा कर दीप की
गिन रहा होगा महाजन सेंत की।

गुरदासपुर, अमृतसर (बस में), 23 अप्रैल, 1951