भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाइकु / अज्ञेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

    
याद
(1)
कैसे कहूँ कि
किसकी याद आई?
चाहे तड़पा गई।
(2)
याद उमस
एकाएक घिरे बादल में
कौंध जगमगा गई।
(3)
भोर की प्रथम किरण फीकी :
अनजाने जागी हो
याद किसी की--

हिन्दी में हाइकु हाइकु के सफल प्रयोग का श्रेय अज्ञेय को दिया जाता है, उन्होंने छठे दशक (१९६०) में अरी ओ करुणा प्रभामय (१९५९) में अनेक हाइकुनुमा छोटी कविताएँ लिखी हैं जो हाइकु के बहुत निकट हैं। जिन पर अब भी लगातार शोध जारी है।