भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाइ, आहुन में साहु ॿुडी वियो / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाइ, आहुन में साहु ॿुडी वियो।
लहरुनि में दरियाहु ॿुडी वियो॥

धोपिजी वियो हर-हिकु समझौतो!
ऋतु पुसी पई, ठाहु ॿुडी वियो॥

पल-पल अखिड़ियूं भरिजी आयूं।
जीअण जो बस, चाहु ॿुडी वियो॥

वेरी हुल जी वीर चढ़ी आ।
दिल तारूं, अफ़वाहु ॿुडी वियो॥

दिल चरीअ बंद भञी छॾिया सभु।
सबुरु सुकी वियो, ॾाहु ॿुडी वियो॥