भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथी चले डिलम डोला रे घोड़ा रे चलियोंगोचाई बाबा गोचाई बाबा / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हाथी चले डिलम डोला रे घोड़ा रे चलियों
हाथी चले डिलम डोला रे घोड़ा रे चलियों
चमकी कैसी घोड़ा रे सारी रात रे दिवा वाले
चमकी कैसी घोड़ा रे सारी रात रे दिवा वाले
राजा चले देश देखन रे
राजा चले देश देखन रे
रानी चलियो गाजा बाजा रे
रानी चलियो गाजा बाजा रे
सारी रात दिवा वाले
सारी रात दिवा वाले
हाथी चले डिलम डोला रे घोड़ा रे चलियो
हाथी चले डिलम डोला रे घोड़ा रे चलियो

स्रोत व्यक्ति - पीला बाई, ग्राम - आंवलिया