भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथ पर आसमान / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोग ऊँची उड़ान रखते हैं

हाथ पर आसमान रखते हैं


शहर वालों की सादगी देखो-

अपने दिल में मचान रखते हैं


ऐसे जासूस हो गए मौसम-

सबकी बातों पे कान रखते हैं


मेरे इस अहद में ठहाके भी-

आसुओं की दूकान रखते हैं


हम सफ़ीने हैं मोम के लेकिन-

आग के बादबान रखते हैं