भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हासिले-फ़िक्रे नारसा क्या है / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हासिले-फ़िक्रे नारसा क्या है।
तू खु़दा बन गया बुरा क्या है॥

कैसे-कैसे ख़ुदा बना डाले।
खेल बन्दे का है ख़ुदा क्या है॥

दर्दे-दिल की कोई दवा न हुआ।
या इलाही! यह माजरा क्या है।।

नूर ही नूर है कहाँ का ज़हूर।
उठ गया परदा अब रहा क्या है॥

रहने दे हुस्न का ढका परदा।
वक़्त-बेवक़्त झाँकता क्या है॥