भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिंदुस्तान हमारा देश / नागेश पांडेय 'संजय'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सारे जग से न्यारा देश,
है आँखों का तारा देश,
प्यारा देश, दुलारा देश।
हमें देश पर नाज है,
हिंदुस्तान हमारा देश,

देश हमारा ताज है।
हमें देश पर गर्व अपार,
हम सब इसके पहरेदार।
इसको खूब सँवारेंगे,
तन-मन इस पर वारेंगे।
जगर-मगर कर चमके देश,
हीरे जैसा दमके देश,
यह अपनी अभिलाषा है,
लेकिन कष्ट जरा सा है,
झगड़े-लफड़े छोड़ें हम,
सबसे नाता जोड़ें हम,
बने एकता अपना धर्म,
बने एकता अपना कर्म।
मिलकर गाए सारा देश,
हिंदुस्तान हमारा देश।
रणबाँके हम वीर बड़े,
हटे न पीछे जहाँ अड़े।
हमें न झुकना भाता है,
हमें न रुकना आता है,
हम हैं अद्भुत सेनानी,
हार नहीं अब तक मानी,
हमने कैसा पाठ पढ़ा,
है इतिहास गवाह खड़ा
हम तो आगे आएँगे।
हम तो कदम बढ़ाएँगे।
प्रतिपल बढ़ते जाएँगे
ऊँचे चढ़ते जाएँगे।
बढ़ना अपनी आन है,
चढ़ना अपनी शान है।
सुख की निर्मल धारा देश
हिन्दुस्तान हमारा देश।