भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिक चोट खां बीअ चोट ॾे सुरन्दो ई रहियुसि मां / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिक चोट खां बीअ चोट ॾे सुरन्दो ई रहियुसि मां।
हर लहजे़ में हर पासे खां झुरन्दो ई रहियुसि मां॥

ख़ुद पाण सॾे सिक सां पियारियुइ थे ॿियनि खे।
मूं ॾे तो निहारियो भी न, घुरन्दो ई रहियुसि मां॥

मोहन जे दड़े जी न लधी सार कॾहिं कंहिं।
हर मींहँ ऐं वाचूडे में भुरन्दो ई रहियुसि मां॥

मूं ज़खम खे वेदनि ऐं जराहनि मां सरियो छा?
हर नुस्खे़ ऐं मरहम सां त कुरन्दो ई रहियुसि मां॥

हर ग़म जी ज़बाँ ते हो संदमि नाउं सदाईं।
राहत जी मगर जीअ में, हुरन्दो ई रहियुसि मां॥