भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिचकियाँ लेता हुआ दुनिया से दीवाना चला / शमीम तारिक़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिचकियाँ लेता हुआ दुनिया से दीवाना चला
जाँ-कनी के वक़्त तेरा ही अफ़्साना चला

मैं जुनून-ए-इश्क़ में जाने कहाँ तक आ गया
शहर के हर मोड़ से पत्थर जुदागाना चला

ख़ून की गर्दिश में शामिल हो गई दिल की उमंग
कू-ए-क़ातिल की तरफ़ बे-इख़्तियाराना चला

मौसम-ए-गुल ज़र्द है ख़ून-ए-तमन्ना के बग़ैर
नक़्द-ए-जाँ लेकर चमन में सरफ़रोशाना चला

मौत के साए में ‘तारिक़’ आरज़ू की धूप थी
कारोबार-ए-ज़िंदगी बे-ए‘तिबाराना चला