भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिन दौर में घणनि खे उन में गुमानु कोन्हे / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन दौर में घणनि खे उन में गुमानु कोन्हे।
को क़त्लगाह जहिड़ो, दिलकश मकानु कोन्हे॥

ॾहकाव हर घिटीअ में, पहरो ॾियनि प्या था।
ऐं शहर जो चओ था, को पासबां कोन्हे!!

सभु पंहिंजो हकु जताए, गुल-फुल छिनी वञनि था।
गुलशन जा सभई मालिक, को बाग़बाँ कोन्हे!!

हिन शहर जो को लीडर, छा ज़ोरदार कोन्हे?
साड़ियलु हिते त हिकु भी उम्दो मकानु कोन्हे!!

माण्हू वञनि था वधन्दा, इन्साँ वञनि था घटिबा।
भॻुवान तुंहिंजो अॼु हीउ, साॻियो जहानु कोन्हे!!

सभिनी जो ज़िकु आहे तुंहिंजे फ़साने में, पर।
कुर्बान थिया जे तो तां, तिनि जो बयानु कोन्हे॥

इज़्ज़त छा शाइरीअ जी, उति थिए कमल जिते खु़द।
पंहिंजनि में पंहिंजीअ ॿोलीअ जो शानु मानु कोन्हे॥