भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हीरों की बस्ती में हमने काँच ही काँच बटोरे हैं / मधुरिमा सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हीरों की बस्ती में हमने काँच-काँच बटोरे हैं,
कितना लिखा फ़साना फिर भी सारे काग़ज़ कोरे हैं ।

झरबेरी की ख़ुशबू जैसी खट्टी-मीठी यादों में,
नीबू, इमली, कैथा, कमरख, कच्चे आम टिकोरे हैं ।

बचपन के बस्ते में मैंने ख़्वाब छुपाकर रक्खे हैं,
एक टूटी गुड़िया माटी की, कुछ टूटे दीप सकोरे हैं ।

नफ़रत से जलती दुनिया को प्यार के गीत सुनाएँगे,
ख़ुशबू बिखराते चलते हम चन्दन पवन झकोरें हैं ।

देखो कैसी सोंधी-सोंधी ख़ुशबू इनसे आती है,
आँखों की कच्ची मिटटी के दीपक नए नकोरे हैं ।