भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हीर राँझे दे हो गए मेले / बुल्ले शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हीर और राँझा का मिलन हो गया।
हीर तो उसे ढूँढ़ने के लिए भटकती रही
किन्तु प्रियतम राँझा तो उसकी बगल में ही खेल रहा था
मैं तो अपनी सब सुध-बुध खो बैठी थी।


मूल पंजाबी पाठ

हीर राँझे दे हो गए मेले,
भुल्ली हीर ढूँढ़ेदी बेले,
राँझा यार बग़ल विच खेले,
मैनू सुध-बुध रही ना काई।