भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हुए थे भाग के पर्दे में तुम निहाँ क्यूँकर / मीर 'तस्कीन' देहलवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुए थे भाग के पर्दे में तुम निहाँ क्यूँकर
वो पहली वस्ल की शब शोख़ियाँ थीं हाँ क्यूँकर

फ़लक को देख के कहता हूँ जोश-ए-वहशत में
इलाही ठहरे मेरी आह का धुआँ क्यूँकर

तुम्हारे कूचे में उस ना-तवाँ का था क्या काम
मुझे भी सोच है आया हूँ मैं यहाँ क्यूँकर

ज़बाँ है लज़्ज़त-ए-बोसा से बंद ऐ ज़ालिम
मज़ा भरा है जो दिल में करूँ बयाँ क्यूँकर

शब-ए-विसान से शिकवे हज़ारों हैं जी में
इलाही बंद रहेगी मेरी ज़बाँ क्यूँकर