भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हुण किस तों आप लुकाईदा / बुल्ले शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुण किस तों आप लुकाईदा?
हुण किस तों आप लुकाईदा?

किते मुल्लाँ हो वलेंदे हो,
किते राम दुहाई देंदे हो।
किते सुन्नत मज़हब दसेंदे हो,
किते मत्थे तिलक लगाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

तुसीं हुण मैं सही सिआते हो,
हर सूरत नाल पछात हो।
जाते हो ते जाते हो,
कोई वल छल होर विखाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

तुसीं सभनीं भेखीं थीन्दे हो,
मैनूँ हर जा तुसीं दिसीन्दे हो।
आप मधकर[1] आपे पीन्दे हो,
आपे आप तों आप चुकाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

हुण पास तुहाडे वस्सांगे,
ना बे-दिल हो के नस्सांगे।
सभ भेत तुहाडे दस्सांगे,
क्यों मैनूँ अग्गना लाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

मैं मेरीहै ना तेरी है,
एही अन्त पाप दी ढेरी है।
एह ढेरी होणी खेरी है,
हुण ढेरी नूँ नाच नचाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

जो याद तुआडी करदा है,
सो मरना तों अग्गे मरदा है।
ओह माया भी तैत्थों डरदा है,
मत मोयाँ नूँ मुड़ कुहाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

वाह, जिसपर करम आवेहा है,
तहकीक ओह कीते जेहाहै।
सच्च सही रवाएत एहा है,
तेरी नज़र महर तर जाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

विच्च भाँबड़[2] बाग लवाया ए,
जड़ विच्च आप विखाया ए।
तैंजाँ अलफों मीम बणाया ए,
ताँ बातन की बतलाईदा
हुण किस तों आप लुकाईदा?

बाहिर ज़ाहिर डेरा पाओ,
आपे डहों ढोल वजाएओ।
जग ते आपणा आप जणाओ,
फिर अबदुल्ला दे घर धाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

लै हमा ओसत अगहा पाया,
ऐस हमा ओसत ने अकल वंजाया[3]
जे कोई तैनूँ वेखण आया,
आपे तूँ ही तूँ हो जाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

बिन्द्राबन विच्च गऊआँ चरावें,
मक्के दा हाजी बण जावें।
लंका चढ़ नाद वजावें,
वाह वाह क्या रंग बण बण जाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

इस अज़ाँ[4] ओसत धाड़ा पाया,
पढ़ पढ़ पंडत नाम बणाया।
दिल ते इक्को अलफ टिकाया,
सो दुआ गंज लुकाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

यूसफ खूहों दे विच्च पाओ,
यूनस मच्छी तों निगलाओ।
साबर केहड़े घाट बहाओ,
फिर ओहनाँ नूँ तख़त चढ़ाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

किते चोर बणे काजी हो,
किते मिंबर[5] ते बाहि माअज़ी[6] हो।
किते तेग बहादर गाज़ी हो,
आपे आपणा कटक[7] बणाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

तूँ ही हाज़र नाले न्यारा,
नाहीं न्यारा ऐवें लारा।
जे तैं आखाँ ना ही प्यारा,
ताँ ऐह घर घर कौण ध्याईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

बेली अल्ला वाली मालक हो,
तुसीं आपे आपणे सालक[8] हो।
आपे खलकत हो आपे खालक हो,
आपे अमर मारूफ[9] कराईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

जे अल्ला इनसान पढ़ाया ए,
ताँ आप नूँ भला छपाया ए।
दल चौदाँ तबक[10] बणाया ए,
किते लम्माँ झगड़ा पाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

मनसूर तुसाँ वल्ल आया सी,
तुसाँ सूली पकड़ चढ़ाया सी।
ओह मेरा भाई बाबल जाया सी,
दे खूम्बहा मेरे भाई दा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

बुल्ला सहु ते मैं माएल हाँ,
तब कर तिनाएत साएल हाँ।
एह साएल का मैं घायल हाँ,
घाएल थों आप छपाईदा।
हुण किस तों आप लुकाईदा?

शब्दार्थ
  1. शराब
  2. आग लगी हुई
  3. गवाया
  4. बेकार
  5. मुंडेर
  6. मल्लाह
  7. फौज
  8. आगू
  9. मशहूर
  10. स्नान