भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हृदय का मूल्य / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक चूड़ी टूटती-तो हाय, हो जाता अमंगल!
मेघ में बिजली कड़कती-काँपता सम्पूर्ण जंगल!
भाग्य के लेखे लगाते-एक तारा टूटता तो!
अपशकुन-शृंगारिणी के हाथ शीशा छूटता तो!
दीप की चिमनी चटकती-चट तिमिर का भय सताता!
कौन सुनता स्फोट? पर, कोई हृदय यदि टूट जाता!