भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हेत : दो / विरेन्द्र कुमार ढुंढाडा़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थांरो हेत
म्हारै ताईं
म्हारो हेत
थारै तांई
यानी
धौरे री रेत
धौरे माथै।

मन भांवती बात
जे करै कोई
म्हारै सारू
म्हनै लागे बो
म्हारो हेताळू
थंनै भी लागतो होसी
साव इयां ईं।

इण सूं आगै बधां आपां
आव
इण सारू
दूजां री मनगत नापां
मनां में ई दिखै
सांचो हेत।