भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हे सरावेन जा हे सरावेन जा / कोरकू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हे सरावेन जा हे सरावेन जा
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
सोना कावड़ी कान्डा ने माय बापू का कान्डाय मारे
सोना कावड़ी कान्डा ने माय बापू का कान्डाय मारे
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
अन्धा माडो अन्धा बा नी डागा टाटोम जा हेयन मारे
अन्धा माडो अन्धा बा नी डागा टाटोम जा हेयन मारे
बारा कोसो कंजली वन में बारा कोसोन जा बिन्दरावन में जा
बारा कोसो कंजली वन में बारा कोसोन जा बिन्दरावन में जा
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
बारा डो बारा चोबीस कोसोन बावरी डानी आनूकी मारे
बारा डो बारा चोबीस कोसोन बावरी डानी आनूकी मारे
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
चिड़िया नूडून चंकोर नूडून बावरी डानी जा आनुकी मारे
चिड़िया नूडून चंकोर नूडून बावरी डानी जा आनुकी मारे
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
राजा दशरथ तीर का मीन जा कुड़ाय मारे
राजा दशरथ तीर का मीन जा कुड़ाय मारे
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
हे सरावेन जा हे सरावेन जा
बारा नी बारा चोबीस कोसोन बावरी डानी जा आनू मारे
बारा नी बारा चोबीस कोसोन बावरी डानी जा आनू मारे

स्रोत व्यक्ति - राधा, ग्राम - कुकड़ापानी