भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हैप्पी न्यू इयर / शरद कोकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
पिछला साल तो कब का मर चुका था दंगों में
याद नहीं कब उसकी लाश को
उढ़ाया हमने कफन
याद नहीं कब उसकी कब्र पर
जलाए हमने दिये
याद नहीं कब उसकी तस्वीर
टांग दी हमने कमरे में
हम कहते हैं उसे जलाया है हमने
हम कहते हैं उसे दफनाया है हमने
या फेंक दिया है चील कौओं के सामने
राम नाम सत्य है रटते हुए हम
वाहे गुरू सतनाम कहते हुए हम
चुपचाप मर्सिया पढ़ते हुए हम
इस नए साल के जन्मोत्सव पर
आओ तय कर लें
नहीं घोषित होने देंगे
मुर्दाफरोशों द्वारा
एक और साल की शहादत।