भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

है हक़ीक़त दूर जब तो बस गुमां है ज़िन्दगी / मधुभूषण शर्मा 'मधुर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


                    है हक़ीक़त दूर जब तो बस गुमां है ज़िन्दगी
                    मिल सकें वो पाँवों कब जिनके निशां है ज़िन्दगी

                    पास हो तो यह ज़मीं के भी कहीं क़ाबिल नहीं
                    दूर से देखो तो लगती आसमां है ज़िन्दगी

                    डोर हो तो लफ़्ज़ लिखती है हवाओं पर पतंग
                    हो हवाओं के ही दम तो बेज़ुबां है ज़िन्दगी

                    तिनका-तिनका जोड़ कर जो हो बनाया बस वही,
                    तिनका-तिनका सा बिखरता आशियां है ज़िन्दगी

                    जब सुपुर्दे-ख़ाक हों तो ग़र्द छटती है यहां ,
                    कितना बदकिस्मत हमारा कारवां है ज़िन्दगी
                   
                    फूल दामन में ‘मधुर’ लेकिन परेशाँ हम खड़े
                    बन गई काग़ज़ का कैसे गुलिस्तां है ज़िन्दगी