भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

होते कुछ भी गर / मोहिनी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दो फूलों की तरह पास होते तो
मिली जुली एक नई गंध ही बनाते
मैं फूल तुम भंवरा होते तो
मेरा आँचल लाल ही कर जाते
मैं नदी तुम सागर होते तो
मैं खो जाती जब तुम मुझको पाते
और होते कुछ भी
जो होता है रूमानी कविताओं में
तो भी क्या?
बस बिम्ब और उपमाएं ही बनाते!
पर अब देखो हम हैं
पास पड़े दो पत्थरों की तरह
रगड़ खाते हैं
पर मेरी जान
आग तो लगाते हैं न!