भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

होरी-होरी कहत दिन थोरी सी बची आली लिए पुष्प डाली चलो सरयू किनार पे / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होरी-होरी कहत दिन थोरी सी बची आली लिए पुष्प डाली चलो सरयू किनार पे।
मदन मरोर डारे पंचवान मारे अली गली-गली गाँवन में फागुन की बहार है।
फागुन में लोक लाज के समाज छूट जात बाल बृद्ध पूछे कवन आपनो सुतार है।
द्विज महेन्द्र साज के समाज आज चलो आली आवें रंग डाली सभी दशरथ कुमार के।