भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हो डपु, ज़मनो तोखे भी मूं खां जुदा न करे! / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हो डपु, ज़मनो तोखे भी मूं खां जुदा न करे!
इहो ई नेठि थियो जो चयुमि, खुदा न करे॥

पुठीअ पुठीअ ते लिखियलु आ, फ़सानो घावनि जो।
छुरीअ छुरीअ ते छपियलु आ, कोई वफ़ा न करे॥

ज़बाँ ते आणि न तूं सभु मामला दिल जा।
खुली मिलणु किथे पैदा मुफ़ासिला न करे॥

बिना लिखति जे रखियमि ख़्वाब उस वटि गिरवी।
खु़दा करे फिरी अंजाम तां दग़ा न करे॥