भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

101 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मलकी गल सुनापवदी चूचके नूं लोक बहुत दिंदे बद दुआ मियां
बारां बरस महीं उस चारियां सी नहीं कीती सू चूं चरां मियां
हक खोह के चाए जवाब दिता महीं छड के घरां नूं जाह मियां
पैरीं लग के जाह मना ओहनूं मत पवी फकीर दी आह मियां
वारस शाह फकीर ने चुप वटी ओहदी चुप ही देगी रूढ़ा मियां

शब्दार्थ