भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

117 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पंजां पीरां नूं रांझे ने याद कीता जदों हीर सुनेहुड़ा घलया ए
माउं बाप काजी सभे गिरद होए गिला सारयां दा सिर झलया ए
पंजां पीरां अगे हथ जोड़ खला जीर रोंदयां मूल न ठल्लया ए
बचा कौन मुसीबतां पेश आइयां विचों जी साडा थरथलया ए
मेरी हीर नूं वीर हैरान कीता काजी माउं ते बाप पथलया ए
मदद करो खुदा दा वासता जे मेरा इशक खराब हो चलया ए
बहुत प्यर दिलासड़े नाल पीरां मियां रांझे दा जीउ तसलया ए
तेरी हीर दी मदद ते मियां रांझा मखदूम जहांनियां घलया ए
दो तिन सद[1] सुना खां वंझली दे साडा गावणे ते जीऊ हलया ए
वारस शाह हुण जट तयार होया लै के बंझली राग विच रलया ए

शब्दार्थ
  1. हांक, ऊंची आवाज़