भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

127 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हीर माउं नूं आण सलाम कीता माउं आखदी आ नी नहरिए नी
बड़बोलीए गोलिए बेहयाये खंडो टिडिए गुल बहरिए नी
तूं आयके साड़के लोहड़ दिता लिंग घडूंगी नाल मुतहरिए[1] नी
अक उठसी आखनी हां टल जा उधलो महर रांझे देनाल दिए महरिए नी
साहनां नाल रहें दिन रात खैंहदी आ टली कुपतीए रहड़िए नी
अज रात नूं जू वाह[2] डोबां तेरी सायत आवंदी कहरिए नी
वारस शाह जदों कपड़धड़ी होसी बेखीं नाल ढाहा उते लहरिए नी

शब्दार्थ
  1. सोटा
  2. नदी