भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

129 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सड़े लेख साडे लज पई तैनूं वडी सोहणी देही नूं लीक लगी
नित करें यारी नित करें तोबा नित करें पखंड ते नित ठगी
असीं मन्हा कर रहे हां मुड़े नाहीं तैनूं किसे फकीर दी कही वगी
वारस शह खंड ते दुध खांदी मारी फिटक दी गई जे हो वगी

शब्दार्थ