भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

141 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चूचक आखया लंडयां जाह साथों तैनूं वल है झगड़यांझेड़यां दा
तूं सरदार हैं चोरां उचकयां दा सूहा बैठा एं महानूआं भेड़यां दा
तैनूं वैर है नाल अजानयां दे अते वैर है दब दरेड़यां दा
आप छेड़ के पिछड़ें दी फिरन रोंदे एह चज है माहणूआं[1] फेड़यां दा
वारस शाह इबलीस[2] दी शकल कैदी एह मूल हैसब बखेड़यां[3] दा

शब्दार्थ
  1. मनुष्य
  2. शैतान
  3. झगड़े