भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

143 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरोई रब्ब दी न्यायों कमायो पैंचो भरे देस विच फाटया कुटवा हां
मुरशद बखशया सी ठूठा भन्नया ने धुरों जढ़ां थी ला मैं पुटया हां
मैं मारया वेखदे मुलक सारे धूह करंके मोए वांग कुटया हां
हड गोडड़े भन्न के चूरा कीते अड़ीदार गदों वांग सुटया हां
वारस शाह मियां वडा गजब होया रो रो के बहुत नखुटया हां

शब्दार्थ