भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

158 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चूचक सयाल ने लिखया रांझया नूं नढी हीर दा चाक उह मुंडड़ा जे
सारा पिंड डरे एस चाक कोलों सिर माहीया दे उस दा कुंडड़ा जे
असां जट ही जान के चाक लाया देइये त्राह जे जानिये गुंडड़ा जे
एडा गभरू घरों क्यों कढया जे लंडा नहीं कमजोर ना टुंडड़ा जे
सिर सोंहदिहां बोदिदां नढड़े दे कन्नीं लाडले दे बने बुंदड़ा जे
वारस शाह ना किसे नूं जानदा ए पास हीर दे रात दिन हुंदड़ा जे

शब्दार्थ