भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

159 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर आइयां दौलतां कौन देंदा किसे बन्न पिंडों कौन टोड़या ए
असां जिउंदयां नहीं जवाब देना साडा रब्ब ने जोड़ना जोड़या ए
किसे चिठियां खत सुनेहयां ते माल टुटया नाहीयों मोड़या ए
जाये भाइयां भाबियां पास जम जम किसे हटकना ते नाही होड़या ए
वारस शाह सियाला दे बाग विचों असां फुल गुलाब दा तोड़या ए

शब्दार्थ